पांचवीं बार बिहार पवेलियन को मिला गोल्ड

दिल्ली के प्रगति मैदान में चल रहे भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में बने ‘बिहार पैवेलियन को एक बार फिर गोल्ड मेडल मिला है।

हिन्दुस्तान

सभी राज्यों को पछाड़ कर बिहारी हस्तशिल्प ने अपनी खूबसूरती से सबका दिल जीत लिया है। 27 नवंबर को प्रगति मैदान के मुख्य मंच पर केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग व रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह सम्मान दिया।

उद्योग विभाग बिहार के सचिव नर्मदेश्वर लाल ने सम्मान प्राप्त किया। मौके पर बिहार भवन के स्थानिक आयुक्त विपिन कुमार सिंह, उपेंद्र महारथी शिल्प संस्थान के निदेशक अशोक कुमार सिन्हा और मंडप निदेशक विशेश्वर प्रसाद भी मौजूद थे। वहीं असम को दूसरा और आंध्रप्रदेश को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ। छह साल में पांचवीं बारदिल्ली के प्रगति मैदान में उद्योग विभाग के उपेंद्र महारथी शिल्प संस्थान द्वारा बिहार पैवेलियन को तैयार कराया गया था। इस बार मेले की थीम थी-कारोबार सुगमता।

संस्थान के निदेशक अशोक कुमार सिन्हा ने बताया कि बिहार पैवेलियन को मधुबनी पेंटिंग, टिकुली कला, मंजूषा कला, टेराकोटा कला से सजाया गया था। पिछले छह साल में यह पांचवां मौका है जब बिहार पैवेलियन को गोल्ड मेडल मिला है। टीम वर्क से मिला मेडलकरीब 39 साल से व्यापार मेला लग रहा है। वर्ष 2014 से उपेंद्र महारथी शिल्प संस्थान बिहार पैवेलियन को सजा रहा है और तब से लगातार (वर्ष 2017 छोड़कर) बिहार पैवेलियन को गोल्ड मेडल मिल रहा है। संस्थान के निदेशक अशोक कुमार सिन्हा ने कहा कि उद्योग मंत्री के निर्देश पर हमारी टीम लगातार काम कर रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *